अर्गला

इक्कीसवीं सदी की जनसंवेदना एवं हिन्दी साहित्य की पत्रिका

Language: English | हिन्दी | contact | site info | email

Search:

केदारनाथ सिंह

Kedarnath Singh

नाम: केदारनाथ सिंह

उम्र: 83 वर्ष

जन्म स्थान: चकिया (बलिया), उत्तर प्रदेश

शिक्षा: एम. ए., पी-एच. डी (काशी हिन्दू विश्वविद्यालय)

अनुभव: साखी नामक अनियतकालिक पत्रिका का सम्पादन.

संप्रति: पेशे से अध्यापक. कार्य्क्षेत्र का प्रसार महानगर से ठेठ ग्रामांचल तक उदय प्रताप कालेज, वाराणसी, सेंट एण्डूज, गोरखपुर, उदित नारयण कालेज, पडरौना, एवं गोरखपुर विश्वविधालय, तथा गोरल्खपुर से संबद्द रहे सन 1976 से जवाहरलाल, नई दिल्ली में अध्यापन

प्रकाशित रचनायें: विधिवत काव्य लेखन 1952 -53 के आसपास शुरू किया. सन 1954 में पाल एलुआर की प्रसिद्द कविता 'स्वतंत्र्ता, का अनुवाद किया, जिसके जरिए नई सौन्दर्य -द्र्स्टि और समकालीन काव्य - चेतना से पहला परिचय हुआ कुछ समय तक बनारस से निकलने वाली अनियतकालिक पत्रिका 'हमारी पीढ़ी ' से संबद्द रहे. पहला कविता -संग्र्ह 'अभी बिल्कुल अभी सन 1960 में प्र्काशित. उसी वर्ष प्रकाशित 'तीसरा सप्तक ' के सहयोगी कवियों में से एक.

कविता संग्रह: अभी बिल्कुल अभी ' जमीन पक रही है ' 'यहँ से देखा ' 'अकाल में सारस ' तथा 'प्रतिनिधि कविताएँ ' कल्पना और छायावाद आधुनिक हिंदी कविता में बिम्बविधान तथा मेरे समय के शब्द (गद्द क्रतियाँ )

अनुवाद कार्य: अंग्रेजी, स्पेनिश, रूशी, जर्मन, हंरियन तथा प्राय: सभी प्रमुख भारतीय भाषाओं में कविताओं के अनुवाद

सम्मान एवं पुरस्कार: अनेक पुरस्कारों से सम्मानित जिनमें प्रमुख हैं: साहित्य अकादमी पुरस्कार, मैथिलीशरण गुप्त सम्मान (मध्य प्रदेश), कुमारन आशान पुरस्कार (केरल), दिनकर पुरस्कार (बिहार) तथा 'जीवन भारती ' सम्मान (उड़ीसा).

यात्राएँ: काव्यपाठ के लिए अमेरिका, रूस तथा काज़ाकिस्तान आदि देशों की यात्राएँ.